बिहार बाढ़: 8 जिलों के 2 लाख 88 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित

Submitted by UrbanWater on Sat, 07/18/2020 - 12:10

तटबंध के भीतर बाढ़ में डूबी जिंदगी

कमोबेश हर साल बिहार में तबाही मचाने वाली बाढ़ इस साल भी दस्तक दे चुकी है। अब तक बिहार के 8 जिलों; सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर. गोपालगंज और पूर्वी चम्पारण के 30 ब्लॉक की 150 पंचायतों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है।

बिहार के आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने कहा,

“अब तक के आकलन के मुताबिक 2 लाख 88 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। इनमें से  9,845 लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है और उन्हें राहत शिविरों में रखा गया है।”

लेकिन प्रभावित आबादी की तुलना में राहत शिविर कम संचालित हो रहे हैं। आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, अभी महज 5 राहत शिविर संचालित हो रहे हैं, जिनमें से दो शिविर दरभंगा में और तीन शिविर गोपालगंज में हैं। इन राहत शिविरों में 2081 लोग ठहरे हुए हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक राहत शिविरों में रहने वालों के लिए 28 सामुदायिक रसोईयां संचालित हो रही हैं।

बाढ़ में डूबे घर

सुपौल और सीतामढ़ी में एक भी राहत शिविर नहीं

आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से मिली जानकारी के मुताबिक, कोसी नदी से हर साल प्रभावित होने वाले सुपौल जिले के 5 प्रखंडों के 53223 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। लेकिन, एक भी राहत शिविर सुपौल में संचालित नहीं हो रहा है। 

इस संबंध में जब इंडिया वाटर पोर्टल ने सुपौल के डीएम महेंद्र कुमार से बात की, तो उन्होंने कहा,

“जो आबादी प्रभावित हुई है, वह कोसी के तटबंध के भीतर रह रही है। पहले कोसी में 2 लाख 76 हजार क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हो रहा था, जो अब घट कर 1 लाख 40 हजार क्यूसेक पर आ गया है। नदी का जलस्तर घट रहा है और अब लोगों के घरों से पानी निकल गया है। इसलिए राहत शिविर स्थापित करने की कोई जरूरत नहीं पड़ी।”

उन्होंने आगे कहा,

“अभी सुपौल में दो सामुदायिक रसोई संचालित हो रही है, जिनमें लोगों को खाना मिल रहा है, लेकिन अब लोग घरों को लौट गए हैं, इसलिए खाना खाने भी नहीं आ रहे हैं। हम लोग जल्द ही दोनों रसोई बंद करने वाले हैं।”

सुपौल के ही एक अन्य अधिकारी ने कहा कि 13 जुलाई तक एक राहत शिविर संचालित हुआ था, जिसमें 400 लोग ठहरे हुए थे।

हालांकि, बाढ़ से प्रभावित लोग और वहां काम करने वाले गैर सरकारी संगठन सरकारी इंतजाम पर सवाल उठाते हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि पिछले एक हफ्ते से बाढ़ का पानी चढ़-उतर रहा है, लेकिन सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली है। जब पानी घरों में घुसा, तो सरकार को कम से कम सूखा राशन देना चाहिए, लेकिन कुछ नहीं मिला।

कोसी नवनिर्माण मंच से जुड़े महेंद्र यादव कहते हैं, “दो दिनों तक लोगों के घरों में पानी घुसा हुआ था। इस दौरान लोगों को बांध पर शरण लेनी पड़ी। कुछ लोग अपने रिश्तेदारों को यहां चले गए, लेकिन सरकार की तरफ से राहत शिविर नहीं बनाया गया। यहां तक कि बांध पर शरण लिए हुए लोगों के लिए भी सामुदायिक रसोई शुरू नहीं की गई।”

सीतामढ़ी जिले के भी 5 प्रखंडों के 30900 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं, लेकिन यहां भी कोई राहत शिविर संचालित नहीं हो रहा है।

बाढ़ से प्रभावितों का आंकड़ा देखें, तो पता चलता है कि इसका असर दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से मिले आंकड़ों के मुताबिक, 13 जुलाई को बिहार के 7 जिलों के 23 प्रखंड बाढ़ की चपेट में थे और इससे 1,68,668 लोग प्रभावित हुए थे, जो अब बढ़कर 2.88 लाख हो चुके हैं।

उधर, बागमती नदी में उफान के कारण शिवहर जिले के पिपहारी प्रखंड में बना अस्थाई कॉफर डैम टूट गया था, जिसके बाद वहां बांध का निर्माण किया गया, ताकि पानी गांवों में न फैले। बिहार के जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय झा ने ट्वीट कर जानकारी दी कि 36 मीटर लंबा बांध महज 36 घंटों में ही बना दिया गया है। 

दरभंगा के केवटी में  भी बागमती नदी में उफान के चलते रेललाइन के निकट बांध टूट जाने से पानी गांवों में फैल गया है।  

शिवहर में सरकार की ओर से बनाया गया पुल

नदियों की स्थिति

भारतीय मौसमविज्ञान विभाग की तरफ से चेतावनी के बावजूद पिछले दो-तीन दिनों से बिहार में बारिश थमी हुई है, लेकिन नेपाल के तराई क्षेत्रों में बारिश के कारण नदियों के जलस्तर में वृद्धि का ट्रेंड दिख रहा है। 

जल संसाधन विभाग के मुताबिक, बूढ़ी गंडक खतरे के निशान से हालांकि नीचे बह रही है, लेकिन समस्तीपुर, खगड़िया और मुजफ्फरपुर में इसके जलस्तर में इजाफा हो रहा है। इसी तरह कमला बालान नदी मधुबनी के जयनगर में खतरे के निशान से नीचे बह रही है, पर इसके जलस्तर में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है। ये नदी मधुबनी के ही झंझारपुर में खतरे के निशान से 0.85 मीटर ऊपर बह रही है। घाघरा नदी सिवान के दरौली में खतरे के निशान पर पहुंच गई है

खिरोई नदी दरभंगा के कमतौल और एकमीघाट में खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। वहीं, बागमती नदी मुजफ्फरपुर के कटौंझा और बेनीबाद में खतरे के निशान से ऊपर है। अधवारा नदी सीतामढ़ी के सुंदरपुर और पुपरी में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। गंगा नदी हालांकि खतरे के निशान के नीचे बह रही है लेकिन भागलपुर के कहलगांव और भागलपुर, पटना के हथीदह और मुंगेर में इसका जलस्तर लगातार बढ़ रहा है।   

भारतीय मौसमविज्ञान विभाग ने 20 जुलाई तक नेपाल और उत्तरी बिहार के कुछ इलाकों में बारिश का पूर्वानुमान लगाया है।

आपका सहयोग

हम निरंतर इस बात की अपील कर रहे हैं कि आप भी अपने इलाके में तटबंधों में किसी भी प्रकार की दरार या अन्य कोई समस्या देखें तो तुरंत हेल्पलाइन नं 18003456145 पर कॉल कर जानकारी  साझा करें।

ट्विटर पर @WRD_Bihar (जल संसाधान विभाग) को टैग करते हुए #HelloWRD के साथ लोग तटबंधों की जानकारी दे सकते हैं। सूचना मिलने पर विभाग तुरंत संबंधित क्षेत्र के अधिकारियों को सूचित करेगा और त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

आप इंडिया वाटर पोर्टल (हिन्दी) पर भी जानकारी साझा कर सकते हैं। जानकारी देते समय आप अपना नाम, स्थान, मोबाइल नं., ईमेल और फोटो भी साझा करें। आपकी व्यक्तिगत जानकारी सार्वजनिक नहीं की जाएगी। 

हमसे संपर्क करें- ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम, ई-मेल  

मूल आलेख हिंदी में उमेश कुमार राय 

हिंदी से अंग्रेजी अनुवाद स्वाति बंसल

अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिये क्लिक करेंं

Disqus Comment