दोहन नहीं संरक्षण जरूरी

Submitted by admin on Thu, 06/05/2014 - 13:05
Source
डेली न्यूज एक्टिविस्ट, 05 जून 2014
जब हम पर्यावरण की बात करते हैं तो यह एक व्यापक शब्द है, जिसमें पेड़-पौधे, जल, नदियां, पहाड़ इत्यादि से लेकर हमारा समूचा परिवेश सम्मिलित है। हमारी हर गतिविधि इनसे प्रभावित होती है और इन्हें प्रभावित करती भी है। भारतीय मानस वृक्षों में देवताओं का वास मानता है। इसके पीछे वृक्षों को संरक्षित रखने की भावना निहित है। कभी लोग गर्मी में ठंडक के लिए पहाड़ों पर जाया करते थे, पर वहां भी लोगों ने पेड़ों को काटकर रिसॉर्ट और होटल बनाने आरंभ कर दिए। मनुष्य और पर्यावरण का संबंध काफी पुरानी और गहरा है। पर्यावरण के बिना जीवन संभव नहीं है। ऐसे में जरूरत है कि इनका दोहन नहीं बल्कि सतत् विकास द्वारा सवंदेनशील उपयोग किया जाए।

पर्यावरण के प्रति बढ़ती असंवेदनशीलता आज भयावह परिणाम उत्पन्न कर रही है। एक तरफ बढ़ती जनसंख्या, उस पर से प्रकृति का अनुचित दोहन, वाकई यह संक्रमणकालीन दौर है। यदि हम अभी भी नहीं चेते तो सभ्यताओं के अवसान में देरी नहीं लगेगी। वैश्विक स्तर पर देखें तो धरती का मात्र 31 प्रतिशत क्षेत्र वनों से आच्छादित है, जबकि 36 करोड़ एकड़ वन क्षेत्र प्रतिवर्ष घट रहा है। नतीजन 1141 प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है। वहीं जंगलों पर निर्भर 1.6 अरब लोगों की आजीविका खतरे में है।

बढ़ते पर्यावरण-प्रदूषण ने जल-थल-नभ किसी को भी नहीं छोड़ा है। पृथ्वी का तीन चौथाई हिस्सा जलमग्न है, जिसमें करीब 0.3 फीसदी में से भी मात्र 30 फीसदी जल ही पीने योग्य बचा है। तभी तो 76.8 करोड़ लोगों को दुनिया में पीने के लिए साफ पानी तक नहीं मिलता। नतीजन, दुनिया में प्रतिवर्ष 18 लाख बच्चे पानी की कमी और बीमारियों के कारण दम तोड़ देते हैं। वहीं प्रतिवर्ष 22 लाख लोग जलजनित बीमारियों के चलते मौत के मुंह में समा जाते हैं। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक 2025 तक 2.9 अरब अतिरिक्त लोग जल आपूर्ति के संकट में इजाफा ही करेंगे।

यदि भारतीय परिप्रेक्ष्य में बात करें तो जिस गंगा नदी को जीवनदायिनी माना जाता है, उसमें एक अरब लीटर सीवेज मिलता है। ऐसे में गंगा में बैक्टीरिया का स्तर 2800 गुना बढ़ गया है। इसी प्रकार यमुना नदी की बात करें तो अकेले राजधानी दिल्ली का 57 फीसदी कचरा यमुना में डाला जाता है। यहां 3053 मिलियन लीटर सीवेज पानी यमुना में हर रोज बहाया जाता है। कहना गलत न होगा कि 80 फीसदी यमुना दिल्ली में ही प्रदूषित होती है।

सिर्फ जल ही क्यों, जिस वायु में हम सांस लेते हैं, वह भी प्रदूषण से ग्रस्त है। पिछले पांच सालों में वायु में 8-10 फीसदी कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ी है, नतीजन 5 करोड़ बच्चे हर समय वायु प्रदूषण से बीमार होते हैं। अकेले एशिया में 53 लाख लोग प्रदूषित वायु के चलते मौत के मुंह में चले जाते हैं। हाल ही में अमेरिका की येल और कोलंबिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों की ओर से 132 देशों में कराए गए वायु गुणवत्ता अध्ययन की मानें तो वायु-प्रदूषण के मामले में भारत आखिरी दस देशों में शामिल है। 132 देशों में भारत को 125वां स्थान मिला है, जबकि चीन को 116वां।

एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार-जलवायु परिवर्तन से हर वर्ष लगभग तीन लाख लोग मर रहे हैं, जिनमें से अधिकतर विकासशील देशों के हैं। ग्लोबल हृयूमैनिटेरियन फोरम की रिपोर्ट के अनुसार-1906 से 2005 के मध्य पृथ्वी का तापमान 0.74 डिग्री सेल्सियस बढ़ा है और हाल के वर्षों में इसमें उल्लेखनीय बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वर्ष 2100 तक यह तापमान न्यूनतम दो डिग्री सेल्सियस बढ़ने के आसार हैं।

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक 2030 तक वैश्विक ऊर्जा की जरूरत में 60 फीसदी की वृद्धि होगी। ऐसे में निर्वहनीय विकास के लिए तत्काल ध्यान दिए जाने की जरूरत है। कोयला और पेट्रोल के अधिकाधिक उपयोग से वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है, जिससे पृथ्वी के औसत तापमान में भी वृद्धि हो रही है।

वैज्ञानिकों का मानना है कि पृथ्वी पर संतुलित तापमान के लिए वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा 0.3 फीसदी रहना जरूरी है। इसमें असंतुलन भयावह स्थिति पैदा कर सकता है। ओजोन परत जहां पराबैंगनी किरणों से धरा की रक्षा करता है, वहीं नित-प्रतिदिन बढ़ते एयर कंडीशनर व रेफ्रीजरेटर एवं प्लास्टिक उद्योग में उपयोग किए जाने वाले क्लोरोफ्लोरो कार्बन के उत्सर्जन से ओजोन परत को नुकसान पहुंच रहा है। इससे जहां पराबैंगनी किरणों के प्रवाह के चलते त्वचा कैंसर जैसी बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं, वहीं ग्लेशियरों के पिघलने के चलते तमाम द्वीपों व देशों पर खतरा मंडरा रहा है।

आर्कटिक क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन पर 2004 में प्रकाशित एक अध्ययन रिपोर्ट में दावा किया गया है कि आर्कटिक क्षेत्र में विश्व के अन्य भागों की अपेक्षा तापमान-वृद्धि दोगुनी गति से हो रहा है। वस्तुत: आर्कटिक क्षेत्र में बर्फीली सतहें अधिक कारगर ढंग से सूर्य-उष्मा का परावर्तन करती हैं, पर अब तापमान बढ़ने एवं हिमखंडों के तीव्रता से पिघलने के कारण अनाच्छादित भूक्षेत्र व सागर तल द्वारा अपेक्षाकृत अधिक ऊष्मा ग्रहण की जा रही है, जिससे यह क्षेत्र अत्यंत तीव्र गति से गर्म होता जा रहा है।

ऐसे में महासागरों का जलस्तर बढ़ने से तमाम द्वीपों व देशों के विलुप्त होने का खतरा उत्पन्न हो गया है। इससे जहां जनसंख्या पलायन की समस्या उत्पन्न हुई है, वहीं समुद्री जीव-जंतुओं के विलुप्त होने की संभावनाएं भी उत्पन्न हो गई हैं।

वस्तुत: जब हम पर्यावरण की बात करते हैं तो यह एक व्यापक शब्द है, जिसमें पेड़-पौधे, जल, नदियां, पहाड़ इत्यादि से लेकर हमारा समूचा परिवेश सम्मिलित है। हमारी हर गतिविधि इनसे प्रभावित होती है और इन्हें प्रभावित करती भी है। भारतीय मानस वृक्षों में देवताओं का वास मानता है। इसके पीछे वृक्षों को संरक्षित रखने की भावना निहित है।

कभी लोग गर्मी में ठंडक के लिए पहाड़ों पर जाया करते थे, पर वहां भी लोगों ने पेड़ों को काटकर रिसॉर्ट और होटल बनाने आरंभ कर दिए। कोई यह क्यों नहीं सोचता कि लोग पहाड़ों पर वहां के मौसम, प्राकृतिक परिवेश की खूबसूरती का आनंद लेना चाहते हैं, न की कंक्रीटों का, पर लगता है जब तक यह बात समझ में आएगी तब तक काफी देर हो चुकेगी।

ग्लोबल वार्मिंग अपना रंग दिखाने लगी है। लोग गर्मी में 45 पर तापमान के आने का रोना रो रहे हैं, पर इसके लिए कोई कदम नहीं उठाना चाहता। क्या सारी जिम्मेदारी सिर्फ सरकार और स्वयंसेवी संस्थाओं की है? जब तक हम इस मानसिकता से नहीं उबरेंगे, तब तक पर्यावरण के नारों से कुछ नहीं होने वाला है।

आइए आज कुछ ऐसा सोचते हैं, जो हम कर सकते हैं। जिसकी शुरुआत हम स्वयं से या अपनी मित्रमंडली से कर सकते हैं। हम क्यों सरकार का मुंह देखें? पृथ्वी हमारी है, पर्यावरण हमारा है तो फिर इसकी सुरक्षा भी तो हमारा कर्तव्य है। कुछ बातों पर गौर कीजिए, जिसे हम अपने परिवार और मित्र जनों के साथ मिलकर करने की सोच सकते हैं। आप भी इस ओर एक कदम बढ़ा सकते हैं।

जैव विविधता के संरक्षण एवं प्रकृति के प्रति अनुराग पैदा करने हेतु फूलों को तोड़कर उपहार में बुके देने की बजाए गमले में लगे पौधे भेंट किए जाएं। स्कूल में बच्चों को पुरस्कार के रूप में पौधे देकर उनके अंदर बचपन से ही पर्यावरण संरक्षण का बोध कराया जा सकता है। इसी प्रकार सूखे वृक्षों को तभी काटा जाए, जब उनकी जगह कम से कम दो नए पौधे लगाने का प्रण लिया जाए।

जीवन के यादगार दिनों मसलन-जन्मदिन, वैवाहिक वर्षगांठ या अन्य किसी शुभ कार्य की स्मृतियों को सहेजने के लिए पौधे लगाकर उनका पोषण करना चाहिए, ताकि सतत-संपोष्य विकास की अवधारणा निरंतर फलती-फूलती रहे। यह और भी समृद्ध होगा यदि अपनी वंशावली को सुरक्षित रखने हेतु ऐसे बगीचे तैयार किए जाएं, जहां पर पीढ़ी द्वारा लगाए गए पौधे मौजूद हों। यह मजेदार भी होगा और पर्यावरण को सुरक्षित रखने की दिशा मे एक नेक कदम भी।

आज के उपभोक्तावादी जीवन में इको-फ्रेंडली होना बहुत जरूरी है। पानी और बिजली का अपव्यय रोककर हम इसका निर्वाह कर सकते हैं। फ्लश का इस्तेमाल कम-से-कम करें। शानो-शौकत में बिजली की खपत को स्वतः रोककर लोगों को प्रेरणा भी दे सकते हैं। इसी प्रकार री-साइकलिंग द्वारा पानी की बर्बादी रोककर टॉयलेट इत्यादि में इनका उपयोग किया जा सकता है।

मानव को यह नहीं भूलना चाहिए कि हम कितना भी विकास कर लें, पर पर्यावरण की सुरक्षा को ललकार कर किया गया कोई भी कार्य समूची मानवता को खतरे में डाल सकता है। अतः जरूरत है कि अभी से प्रकृति व पर्यावरण के संरक्षण के प्रति सचेत हुआ जाए और इसे समृद्ध करने की दिशा में तत्पर हुआ जाए।

Disqus Comment