आज अहम है पर्यावरण रक्षा का सवाल

Submitted by Hindi on Sun, 06/04/2017 - 11:00


विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून पर विशेष

.Environment on top priority

आज विश्व पर्यावरण दिवस है। आज के दिन समूचे विश्व में बड़े-बड़े कार्यक्रम होंगे और उनमें पर्यावरण की रक्षा हेतु बड़ी-बड़ी बातें होंगी। यही नहीं इस सम्बंध में बड़ी-बड़ी घोषणाएँ और दावे किए जायेंगे। विचारणीय यह है कि क्या इसके बाद कुछ कारगर कदम उठाये जाने की उम्मीद की जा सकती है। हालात तो इसकी गवाही देते नहीं हैं। पिछला इतिहास इसका जीता-जागता सबूत है। अपने देश भारत की तो बात ही अलग है, यदि अपनी ताकत के बल पर पूरी दुनिया के अधिकांश देशों को अपने इशारों पर नचाने वाले देश अमेरिका की बात करें तो पता चलता है कि अमेरिका के वित्तीय हितों के आगे कुछ भी महत्त्वपूर्ण नहीं है।

पर्यावरण रक्षा का सवाल भी उनके लिये कोई खास अहमियत नहीं रखता। इस बाबत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कथन भी इसकी पुष्टि करता है। डोनाल्ड ट्रंप के बारे में तो पहले से ही पता था कि वह पर्यावरण हितों के कितने विरोधी हैं। उनके द्वारा अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण संस्था का बजट लगभग समाप्त कर दिया जाना इसका ज्वलंत प्रमाण है। जबकि पूरा विश्व पेरिस समझौते का सम्मान करता है लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इसके बिल्कुल अलग राय रखते हैं। वह इस मामले में अलग ही सोचते हैं। अमेरिका का इससे हटना पेरिस समझौते की भावना के लिये घातक होगा। अब इतना तो तय है कि अमेरिका ट्रंप के शासनकाल में उत्पादन बढ़ाने में मददगार वह हर काम करेगा, वह चाहे अधिकाधिक मात्रा में कोयला निकालने का सवाल हो या अधिकाधिक बिजली घरों के निर्माण का सवाल हो। इससे ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन बढ़ेगा।

देखा जाये तो अमेरिका के लिये यह कुछ भी नया नहीं है। वह पहले भी रियो से लेकर पेरिस तक अपने हितों के लिये अपनी सुविधानुसार नियमों को बदलता रहा है। गौरतलब है कि आज से पाँच दशक पूर्व अमेरिका में ही मनाए गए पहले पृथ्वी दिवस को आधुनिक पर्यावरण आंदोलन की शुरुआत की संज्ञा दी गई थी। उसके बाद से ही दुनिया के तमाम देश पर्यावरण रक्षा की इस मुहिम को अपने सीमित संसाधनों के बावजूद परवान चढ़ाने में लगे हुए हैं। वह बात दीगर है कि वे इससे निपटने की दिशा में आने वाली दुश्वारियों का रोना रोयें लेकिन वे प्रयासरत जरूर हैं।

यह एक अच्छा संकेत अवश्य है। इसलिए बेहद जरूरी यह है कि इस मामले में चुनौतियों का सामना किए जाने हेतु पूरा विश्व एक हो। इसमें किंचित भी दो राय नहीं कि ऐसे मामले डोनाल्ड ट्रंप जैसे नेताओं के रहमोकरम पर तो छोड़े नहीं जा सकते। वे कब क्या कहेंगे और क्या करेंगे, इस पर भरोसा तो बिल्कुल नहीं किया जा सकता। भले पर्यावरण की समस्या हमारी ही पैदा की हुई है लेकिन यह भी सच है कि उसका निदान भी हमें ही निकालना होगा। इस मामले में हाथ पर हाथ रखे बैठने से, एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप और उसे कोसने से कुछ नहीं होने वाला।

यह सच है कि पर्यावरण असंतुलन में मौसम में आए भीषण बदलाव और तापमान में बढ़ोतरी की अहम भूमिका है। मौसम में एक डिग्री सेल्सियस तक गर्मी या ठंडा होना सामान्य सी बात है लेकिन जब पूरी धरती के औसत तापमान की बात हो तो इसमें मामूली सी बढ़ोतरी के गंभीर नतीजे सामने आयेंगे। नासा की मानें तो धरती का औसत तापमान 0.8 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ चुका है। अब भी संभल जायें अन्यथा यदि धरती एक डिग्री गर्म हुई तो हालात और विषम होंगे। नतीजतन लोग पीने के पानी के लिये तरस जायेंगे। देखा जाये तो मौसम में यह बदलाव अलनीनों के प्रभाव का नतीजा है।

ग्लोबल वार्मिंग के मामले में पहले से ही इस बात की आशंका थी कि यदि तापमान में बढ़ोतरी की यही रफ्तार रही तो आने वाले 50-100 सालों में धरती का तापमान इतना बढ़ जायेगा कि इसका सामना कर पाना असंभव होगा। इसमें दोराय नहीं कि इस सबके लिये प्राकृतिक कारणों के साथ-साथ भौतिक संसाधनों की अंधी दौड़ और हमारी जीवन शैली भी कम दोषी नहीं है। जीवन को आरामदायक बनाने वाले घरेलू उपकरणों के अत्यधिक इस्तेमाल से भी धरती तेजी से गरम हो रही है। धरती को बचाने के लिये हरियाली बेहद जरूरी है जिसके लिये पेड़ों का होना जरूरी है लेकिन विडम्बना देखिए कि टॉयलेट पेपर बनाने की खातिर रोजाना तकरीबन 27000 पेड़ काटे जा रहे हैं। अंधाधुंध जंगलों का कटान, जोहड़ और तालाबों का शहरों की तो बात दीगर है, गाँवों तक से उनका नामोनिशान मिट जाना, घरों के आंगन में पहले पेड़ होते थे, अब पेड़ की तो बात करना ही बेमानी है, आंगन में क्यारी ही खत्म हो गई। वह तो अब बीते जमाने की बात लगती है क्योंकि अब घरों के आंगन ही खत्म कर दिये गए।

बढ़ती आबादी ने फ्लैट संस्कृति को बढ़ावा दिया। नतीजतन जहाँ खेती योग्य जमीन थी वहाँ पर अब बहुमंजिला मीनारें नजर आती हैं। राजमार्गों के किनारे आज से 30-40 साल पहले जहाँ खेतों में हरियाली और सड़क किनारे छायादार पेड़ों की श्रृंखला नजर आती थी, वहाँ अब सन्नाटा या गगनचुम्बी इमारतें या कल-कारखानों की चिमनियों से निकलने वाला धुआँ ही धुआँ नजर आता है। गौरतलब है कि रेनफॉरेस्ट बनने में तकरीबन एक हजार साल लगते हैं लेकिन हर सेकेण्ड एक फुटबाल ग्राउण्ड जितना रेनफॉरेस्ट तबाह हो रहा है। यह सभी जानते हैं कि एयरकंडीशन पर्यावरण के लिये घातक है लेकिन इससे निकलने वाली गर्मी ग्रीनहाउस गैसों के प्रभाव को दिन-ब-दिन और बढ़ा रही है। रेफ्रिजरेटर्स में आर-134ए नामक रेफ्रिजरेंट्स का इस्तेमाल होता है, यह सीएफसी सबसे ज्यादा ओजोन परत को नुकसान पहुँचाती है। यह कटु सत्य है कि इन दोनों को जिस तापमान में ठंडा किया जाता है, उतनी ही गर्मी यह बाहर भी भेजते हैं।

आबादी में बढ़ोतरी के चलते रेफ्रिजरेटर्स और एयरकंडीशन की मांग में बेतहाशा बढ़ोतरी चिंतनीय है। अब तो कारों में एसी और घरों में फ्रिज आम बात है। ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन पर्यावरण असंतुलन का कारण बन रहा है। लेकिन इस ओर ध्यान किसका है। यह दुखद है। लैपटॉप डेस्कटॉप से अच्छा विकल्प है। लैपटॉप डेस्कटॉप से 5 गुना कम ई-वेस्ट पैदा करता है। प्लास्टिक के खतरों के बारे में जानते-बूझते और चेतावनी के बावजूद सब मौन हैं। असल में प्लास्टिक की बोतल 450 साल में गलती है। कई बार इसके अवक्रमण में एक हजार साल तक लग जाता है। उत्तर पूर्वी प्रशांत महासागर में 40 सालों में प्लास्टिक कचरे की मात्रा में 100 गुणा बढ़ोतरी हुई है। इससे जलीय जंतुओं को सांस रुकने और अन्तरग्रहण का खतरा पैदा हो गया है। आर्कटिक महासागर की सतह पर तैरते प्लास्टिक के 300 अरब टुकड़े किस तरह ग्लोबल वार्मिंग बढ़ा रहे हैं लेकिन दुख इस बात का है कि इस बारे में कोई नहीं सोच रहा।

यह सच है कि हमने विकास का एक ऐसा मॉडल अपनाया है जो निरंकुश उपभोक्तावाद को बढ़ावा दे रहा है। यह किसी के भी हित में कदापि नहीं है। भारत और चीन जैसे देश जो विकास की खातिर पश्चिमी मॉडल के अनुसरण में अंधे हो रहे हैं, वह बेहद खतरनाक है। इस मॉडल में प्राकृतिक संसाधनों के अतिदोहन को नकारा नहीं जा सकता। यह भी सच है कि औद्योगिक रूप से विकसित राष्ट्रों में होने वाले कार्बनिक उत्सर्जनों ने समूची दुनिया की आबोहवा को खतरनाक स्थिति तक नुकसान पहुँचाया है जिससे पैदा मौसमी बदलाव ने लाखों लोगों के सामने अस्तित्व का संकट पैदा कर दिया है। निष्कर्ष यह कि यदि अब भी सतर्क नहीं हुए और हमने अपनी आदतें नहीं बदलीं तो हम तो इसके दुष्परिणाम भुगतेंगे ही, आने वाली पीढ़ियाँ भी भुगतेंगी और इस अपराध के लिये वे हमें कतई माफ नहीं करेंगी।

हमें अपनी जीवनशैली बदलनी होगी। प्रकृति से जुड़ाव जो हमारे संस्कारों में शामिल था और जिससे हम दूर हो गए हैं, उसे पुनर्स्थापित करना होगा। सरकारें अपने तरीके से काम करती हैं। वह तो अभी तक जलवायु परिवर्तन के मसौदे की समीक्षा भी नहीं कर सकी है। इसमें दोराय नहीं कि पर्यावरण को साफ रखने की लड़ाई हमें कानून बनाने से लेकर उस पर अमल कराने तक के स्तर पर कई मोर्चों पर लड़नी पड़ रही है। हमें हरियाली को अपने तरीके से वापस लाना होगा और वृक्षारोपण का यह काम दिखावे के लिये आंकड़ों में नहीं, असलियत में करना होगा। पर्यावरण की रक्षा और वृक्षों के प्रति विश्नोई समाज का प्रेम और त्याग जगजाहिर है। हमें उनसे सीखना होगा तभी कामयाबी संभव है। सबसे बड़ी बात कि इसमें हर इंसान को अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पर्यावरण को बेहतर बनाने की राह आसान नहीं है और स्वच्छ पर्यावरण के बिना जीवन असंभव है। इसमें कई बाधाओं का सामना करना होगा और यदि जीवन बचाना है तो पर्यावरण की रक्षा करनी ही होगी। इसके सिवाय कोई चारा नहीं।

 

 

विश्व पर्यावरण पर अधिक जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करें।

 


विश्व पर्यावरण दिवस पर झारखण्ड के मुख्यमन्त्री का सन्देश

आने वाला विश्व पर्यावरण दिवस का त्यौहार

जगह-जगह पौधरोपण, ली पर्यावरण संरक्षण की शपथ

परम्पराओं-मान्यताओं की उपेक्षा का परिणाम है पर्यावरण विनाश (Environment Day, 2016 Special)

5 जून-क्या खास है इस दिन

भारतीय संस्कृति में पर्यावरण और वनों की उपयोगिता

पर्यावरण से खिलवाड़ घातक

प्रकृति, पर्यावरण और स्वास्थ्य का संरक्षक कदंब

पर्यावरण और फौज

नई औद्योगिक नीति एवं पर्यावरण

पर्यावरण को दूषित करता ई-कचरा

विरासत में मिली पर्यावरण प्रेम की सीख

कहां है हमारी ग्रीन पार्टी

खाद्य शृंखला बचाने से बचेगा वन्य जीवन

पर्यावरण प्रदूषण : अस्तित्व संकट और हम

पर्यावरण संरक्षण बेहतर कल के लिए

जौ व जई से पर्यावरण बचाने की मुहिम

पर्यावरण और वन-विनाश

ग्लोबल वार्मिंग या विश्व-तापन

पर्यावरण के साथ होने का मतलब

पर्यावरण पर विशेष ग्रोइंग सेक्टर है ग्रीन जॉब

वन हैं तो हम हैं

 

 

 

 

 

पर्यावरण रक्षा हेतु आन्दोलन की जरूरत

 


पर्यावरण में सन्तुलन जीवन पद्धति में बदलाव के बिना असम्भव

नदिया धीरे बहो

स्थायी विकास के लिये वनीकरण की आवश्यकता

पर्यावरण-पर्यटन और पर्वत

वृक्षों की रक्षा हेतु जनचेतना की बेहद जरूरत

धरती का बुखार

अच्छे पर्यावरण के लिये एक गाँव की अनूठी मुहिम

धरती : पहले शोषण फिर संरक्षण

संवेदनशून्य होता हमारा समाज

क्यों है खास चातुर्मास

खतरनाक स्तर पर कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन

पर्यावरण संकट और भारतीय चित्त

पर्यावरण से ही जीवन है

सड़क पर अपना हक

अमीरों के हितों में पिसते गरीब

मैगी नूडल्स के बहाने पर्यावरण के प्रश्न

 

 

 

 

 

 

TAGS

Paryavaran Diwas in Hindi Language, Visva Paryavaran divas kab manaya jata hai in Hindi, World Environment Day (Vishva Paryavaran Diwas) In India in hindi Language, Vishva Paryavaran divas par visheshlekh Hindi me, paryavaran essay in hindi, paryavaran diwas date in Hindi Language, paryavaran diwas in hindi, paryavaran diwas nibandh in Hindi, Essay on paryavaran diwas 2014, vishwa paryavaran diwas 2014, Vishwa paryavaran diwas par nibandh in Hindi, Vishwa paryavaran diwas 2014 in Hindi, Vishwa paryavaran diwas in Hindi, Vishwa paryavaran diwas in Hindi, Article on vishwa paryavaran divas in Hindi, vishva paryavaran diwas in hindi, 05 jun paryavaran diwas 2016 in hindi, 05 jun paryavaran divas 2016 in hindi, jagriti paryavaran diwas in hindi, jagriti paryavaran divas in hindi, Environment on top priority in hindi

 

 


लेखक परिचय
ज्ञानेन्द्र रावत

वरिष्ठ पत्रकार, लेखक एवं पर्यावरणविद, अध्यक्ष, राष्ट्रीय पर्यावरण सुरक्षा समिति, ए-326, जीडीए फ्लैट्स, फर्स्ट फ्लोर, मिलन विहार, फेज-2, अभय खण्ड-3, समीप मदर डेयरी, इंदिरापुरम, गाजियाबाद-201010, उ.प्र. मोबाइल: 9891573982, ई-मेल: rawat.gyanendra@rediffmail.com, rawat.gyanendra@gmail.com

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Disqus Comment