नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by HindiWater on Sat, 04/04/2020 - 08:58
नदियों के सूखने का कारण
बीसवीं सदी के पहले कालखंड तक भारत की अधिकांश नदियाँ बारहमासी थीं। उस दौरान यदि कोई नदी सूखती थी तो वह सूखना अपवाद स्वरूप था। पिछले 50-60 सालों से भारत की सभी नदियों के गैर-मानसूनी प्रवाह में गंभीर कमी आ रही है।

Content

Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 14:13
Source:
वेब आधारित तकनीकों का पानी-पर्यावरण के लिए समाज-शिक्षण
इंटरनेट और मोबाइल टेलीफोन का जैसे विस्तार हो रहा है वैसे ही विकास के इस दौर में समुदायों के बीच सूचना प्रौद्योगिकी विशेष-कर वेब टेक्नोलॉजी का प्रयोग बढ़ रहा है। इसके प्रयोग से जल सहित विभिन्न क्षेत्रों में पारदर्शिता, जवाबदेही और जन सहभागिता को बढ़ावा मिला है।
Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 08:30
Source:
पानी : एक बड़े संकट की आहट
साढ़े चार अरब साल पहले धरती पर पानी आया था। जब पृथ्वी का जन्म हुआ तब यह बहुत गर्म थी। कालांतर में यह ठंडी हुई और इस पर पानी ठहरा। वर्तमान में जल संकट बहुत गहराया है। आज पानी महत्वपूर्ण व मूल्यवान वस्तु बन चुका है। शुद्ध पानी जहां अमृत है, वहीं दूषित पानी विष और महामारी का आधार।
Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 07:30
Source:
आईनेक्सट, 08 अप्रैल 2020
पीने को पानी नहीं कैसे करें हैंडवाॅश
एक ओर कोरोना संक्रमण का संकट, दूसरी ओर कई इलाकों में इन दिनों पीने के पानी की दिक्कत। ये हालात दून शहर के दो वार्ड़ों के है। ऐसे में इन इलाकों में पिछले एक हफ्ते से स्थानीय लोगों को कोरोना संक्रमण के बीच पीने का पानी नहीं मिल पा रहा है।

प्रयास

Submitted by HindiWater on Mon, 03/23/2020 - 16:18
कश्मीर के चश्मों की पहचान बचा रहे रिफत
वादी -ए-कश्मीर में चश्मे जो कभी पहचान थे आज वे लुप्त होने की कगार पर हैं, लेकिन इन्हें बचाने के लिये नए कश्मीर के नौजवान आग आए हैं। इनमें पर्यावरण संरक्षक रिफत अब्दुल्ला हैं। मदर टेरेसा अवार्ड से सम्मानित रिफत ने घाटी के जल स्रोतों को बचाने के लिये अभियान छेड़ रखा है। इनमें उनके कुछ दोस्त और स्थानीय लोग मदद कर रहे हैं।

नोटिस बोर्ड

Submitted by UrbanWater on Thu, 04/09/2020 - 15:00
Source:
कोविड-19 कैसे रहे तैयार: स्फीयर इंडिया कोविड-19 एकेडमी
NDMA, UNICEF, WHO, HCL Foundation और Sphere India ने क्षमता निर्माण की एक संयुक्त पहल की है जिसका नाम है स्फीयर इंडिया कोविड-19 एकेडमी। एकेडमी द्वारा एक ज्ञान सत्र का आयोजन किया जा रहा है। यह सत्र तैयारियों और प्रतिक्रिया के लिए स्वयंसेवकों और आउटरीच (जो सीधे मैदान में जाकर काम कर रहे हैं) कार्यकर्ताओं के लिए है। तिथिः अप्रैल 10, 2020 – शुक्रवार समयः अपराह्न 2 – 3.30
Submitted by UrbanWater on Thu, 04/02/2020 - 16:31
Source:
कोविड-19 और तनाव मुक्ति के लिये नोलेज सत्र
ECHO India और NIMHANs के साथ कोविड-19 (COVID-19) पर एक ऑनलाइन ज्ञान सत्र का आयोजन किया जा रहा है। यह इंटरैक्शन एनजीओ और उनके कर्मचारियों पर केंद्रित है और उम्मीद करते हैं कि इससे लॉकडाउन के दौरान उत्पन्न हुए तनाव से कर्मचारियों को बेहतर तरीके से निपटने में मदद मिलेगी।
Submitted by HindiWater on Mon, 03/30/2020 - 07:47
Source:
स्वामी शिवानंद और साध्वी पद्मावती का अनशन समाप्त
गंगा की अविरलता के लिए अनशन कर रहे मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने अनशन को विराम दे दिया है। कोरोना के संकट के बीच देशभर के गंगा प्रेमियों के अनुरोध पर उन्होंने ये निर्णय लिया है। वहीं उन्होंने साध्वी पद्मावती का अनशन समाप्त करने की भी घोषणा की है।

Latest

खासम-खास

नदियों के सूखने का कारण

Submitted by HindiWater on Sat, 04/04/2020 - 08:58
Author
कृष्ण गोपाल 'व्यास’
नदियों के सूखने का कारण
बीसवीं सदी के पहले कालखंड तक भारत की अधिकांश नदियाँ बारहमासी थीं। उस दौरान यदि कोई नदी सूखती थी तो वह सूखना अपवाद स्वरूप था। पिछले 50-60 सालों से भारत की सभी नदियों के गैर-मानसूनी प्रवाह में गंभीर कमी आ रही है।

Content

वेब आधारित तकनीकों का पानी-पर्यावरण के लिए समाज-शिक्षण में योगदान (केस-स्टडी: इंडिया वाटर पोर्टल-हिंदी)

Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 14:13
Author
मीनाक्षी अरोड़ा
वेब आधारित तकनीकों का पानी-पर्यावरण के लिए समाज-शिक्षण
इंटरनेट और मोबाइल टेलीफोन का जैसे विस्तार हो रहा है वैसे ही विकास के इस दौर में समुदायों के बीच सूचना प्रौद्योगिकी विशेष-कर वेब टेक्नोलॉजी का प्रयोग बढ़ रहा है। इसके प्रयोग से जल सहित विभिन्न क्षेत्रों में पारदर्शिता, जवाबदेही और जन सहभागिता को बढ़ावा मिला है।

पानी : एक बड़े संकट की आहट

Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 08:30
Author
डाॅ. दीपक कोहली
पानी : एक बड़े संकट की आहट
साढ़े चार अरब साल पहले धरती पर पानी आया था। जब पृथ्वी का जन्म हुआ तब यह बहुत गर्म थी। कालांतर में यह ठंडी हुई और इस पर पानी ठहरा। वर्तमान में जल संकट बहुत गहराया है। आज पानी महत्वपूर्ण व मूल्यवान वस्तु बन चुका है। शुद्ध पानी जहां अमृत है, वहीं दूषित पानी विष और महामारी का आधार।

कोरोना : पीने को पानी नहीं कैसे करें हैंडवाॅश

Submitted by HindiWater on Thu, 04/09/2020 - 07:30
Source
आईनेक्सट, 08 अप्रैल 2020
पीने को पानी नहीं कैसे करें हैंडवाॅश
एक ओर कोरोना संक्रमण का संकट, दूसरी ओर कई इलाकों में इन दिनों पीने के पानी की दिक्कत। ये हालात दून शहर के दो वार्ड़ों के है। ऐसे में इन इलाकों में पिछले एक हफ्ते से स्थानीय लोगों को कोरोना संक्रमण के बीच पीने का पानी नहीं मिल पा रहा है।

प्रयास

कश्मीर के चश्मों की पहचान बचा रहे रिफत

Submitted by HindiWater on Mon, 03/23/2020 - 16:18
Source
दैनिक जागरण, 23 मार्च 2020
कश्मीर के चश्मों की पहचान बचा रहे रिफत
वादी -ए-कश्मीर में चश्मे जो कभी पहचान थे आज वे लुप्त होने की कगार पर हैं, लेकिन इन्हें बचाने के लिये नए कश्मीर के नौजवान आग आए हैं। इनमें पर्यावरण संरक्षक रिफत अब्दुल्ला हैं। मदर टेरेसा अवार्ड से सम्मानित रिफत ने घाटी के जल स्रोतों को बचाने के लिये अभियान छेड़ रखा है। इनमें उनके कुछ दोस्त और स्थानीय लोग मदद कर रहे हैं।

नोटिस बोर्ड

कोविड-19 कैसे रहे तैयार: स्फीयर इंडिया कोविड-19 एकेडमी

Submitted by UrbanWater on Thu, 04/09/2020 - 15:00
Author
हिंदी इंडिया वाटर पोर्टल
कोविड-19 कैसे रहे तैयार: स्फीयर इंडिया कोविड-19 एकेडमी
NDMA, UNICEF, WHO, HCL Foundation और Sphere India ने क्षमता निर्माण की एक संयुक्त पहल की है जिसका नाम है स्फीयर इंडिया कोविड-19 एकेडमी। एकेडमी द्वारा एक ज्ञान सत्र का आयोजन किया जा रहा है। यह सत्र तैयारियों और प्रतिक्रिया के लिए स्वयंसेवकों और आउटरीच (जो सीधे मैदान में जाकर काम कर रहे हैं) कार्यकर्ताओं के लिए है। तिथिः अप्रैल 10, 2020 – शुक्रवार समयः अपराह्न 2 – 3.30

कोविड-19 और तनाव मुक्ति के लिये नोलेज सत्र

Submitted by UrbanWater on Thu, 04/02/2020 - 16:31
कोविड-19 और तनाव मुक्ति के लिये नोलेज सत्र
ECHO India और NIMHANs के साथ कोविड-19 (COVID-19) पर एक ऑनलाइन ज्ञान सत्र का आयोजन किया जा रहा है। यह इंटरैक्शन एनजीओ और उनके कर्मचारियों पर केंद्रित है और उम्मीद करते हैं कि इससे लॉकडाउन के दौरान उत्पन्न हुए तनाव से कर्मचारियों को बेहतर तरीके से निपटने में मदद मिलेगी।

स्वामी शिवानंद और साध्वी पद्मावती का अनशन समाप्त

Submitted by HindiWater on Mon, 03/30/2020 - 07:47
स्वामी शिवानंद और साध्वी पद्मावती का अनशन समाप्त
गंगा की अविरलता के लिए अनशन कर रहे मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने अनशन को विराम दे दिया है। कोरोना के संकट के बीच देशभर के गंगा प्रेमियों के अनुरोध पर उन्होंने ये निर्णय लिया है। वहीं उन्होंने साध्वी पद्मावती का अनशन समाप्त करने की भी घोषणा की है।

Upcoming Event

Popular Articles