नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by UrbanWater on Fri, 05/29/2020 - 17:04
कोरोना और जलसंकट
कोविड-19 के जिस दौर में ध्वस्त होती अर्थ-व्यवस्था, श्रमिकों का पलायन और कोरोना के इलाज के लिए उपयुक्त दवा के अभाव में मरते लोगों का मुद्दा पूरी दुनिया के सामने मुख्य धारा में हो; उस दौर में राजस्थान के एक छोटे से गांव के पेयजल संकट की बात अनेक लोगों को अटपटी लग सकती है। पर जब दिनांक 25 मई 2020 को उपेन्द्र शंकरजी ने जयपुर जिले की बस्सी तहसील के दनऊँ खुर्द ग्राम के पप्पू लाल शर्मा का पत्र वाट्सअप पर मुझे भेजा तो लगा कि यह समस्या, किसी भी कसौटी पर कम महत्वपूर्ण नहीं है। कोरोना तो साल दो साल की आपदा है पर गर्मी के मौसम का जल संकट तो सुरसा के मुँह की तरह लगातार बढ़ने वाला संकट है।

Content

Submitted by UrbanWater on Sat, 05/23/2020 - 11:32
Source:
साभार- योजना जनवरी 2020
प्लास्टिक कचरे का उचित प्रबंधन जरूरी
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बहने वाली दो बड़ी नदियों पर प्लास्टिक कचरे के इस्तेमाल का असर साफ-साफ दिखाई देता है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सिंध नदी से समुद्र में लगभग 164,332 टन और मेघना-ब्रह्मपुत्र से 72,845 टन प्लास्टिक कचरा समुद्र में पहुँचता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक देश में सिंगल-यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने का लक्ष्य तय किया है।
Submitted by UrbanWater on Fri, 05/22/2020 - 16:09
Source:
साभार - सहारा समय, 21 मई 2020
सहारा न्यूज नेटवर्क के सीईओ एवं एडिटर इन चीफ उपेन्द्र राय एवं केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत
सबसे बड़ी चुनौती है घर-घर में पीने का पानी पहुंचाना। यही जल शक्ति मंत्रालय का सबसे बड़ा लक्ष्य है। हर जरूरी सुविधा की तरह हम पीने के पानी को भी घर-घर पहुंचाने का संकल्प लेकर आगे बढ़ रहे हैं।
Submitted by HindiWater on Fri, 05/22/2020 - 14:15
Source:
जीवित हुए जलस्रोत, तो जी उठी जैव विविधता
दुनिया भर में खत्म होते जलस्रोत और जैव विविधता सभी के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं। सभी देश जल संकट से निपटने और जैव विविधता को बचाने के तमाम प्रयास कर रहे हैं। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नीतियां और कानून बनाए जा रहे हैं।

प्रयास

Submitted by HindiWater on Sat, 05/23/2020 - 13:51
नैनखेड़ी गांवः तालाब जिंदा होते ही लौट आई खुशहाली
पानीदार देश के रूप में भारत अपनी समृद्धि खोता जा रहा है, लेकिन खो रही समृद्धि को बचाने का कई लोग भरसक प्रयास कर रहे हैं, जिनमें ताजा उदाहरण सहारनपुर के नैनखेड़ी गांव का है, जहां तालाब को न केवल जिंदा किया गया, बल्कि ये गांव टूरिस्ट स्पाॅट बन गया है। जिससे गांव की खुशहाली लौट आई है।

नोटिस बोर्ड

Submitted by HindiWater on Tue, 05/19/2020 - 15:04
Source:
वेबिनारः कोरोनार संकट और लाॅकडाउन हिमालय के परिप्रेक्ष में 
कोरोना संकट और लॉकडाउन को हिमालय क्षेत्र के परिप्रेक्ष में समझने के लिए 21 मई, गुरुवार 4 बजे हमारे पेज Endangered Himalaya में इतिहासकार डॉ. शेखर पाठक के साथ लाइव बातचीत में जुड़ें।  आप Zoom में https://bit.ly/2zmjhHs लिंक में पंजीकरण करके भी जुड़ सकते हैं। इसका आयोजन हिम धारा और रिवाइटललाइज़िग रेनफेड एग्रीकल्चर द्वारा किया जा रहा है।
Submitted by HindiWater on Tue, 05/19/2020 - 14:52
Source:
‘‘वाॅश फाॅर हेल्थी होम्स-भारत’’ पर वेबिनार
‘‘वाॅश फाॅर हेल्थी होम्स-भारत’’ विषय पर सहगल फाउंडेशन और सीएडब्ल्यूएसटी ऑनलाइन वर्कशाप का आयोजन करने जा रहा है। कार्यशाला का उद्देश्य वाॅश के प्रति लोगों को जागरुक करना और प्रेरित करना है। ये वेबिनार निन्मलिखित विषयों से संबंधित रहेगा - 
Submitted by UrbanWater on Wed, 05/13/2020 - 11:11
Source:
पंकज मालवीय अक्षधा फाउंडेशन
पानी रे पानी
विश्व पर्यावरण दिवस – 5 जून 2020

ई-चित्रकला व गृह सज्जा प्रतियोगिता में भाग लें और जीते ₹ 1,51,000 पुरस्कार राशि |
प्रविष्टि रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि – 30 मई 2020
ई-प्रतियोगिता की तिथि – 5 जून 2020,
समय 10 बजे प्रात: से 4 बजे तक

Latest

खासम-खास

कोविड-19 के दौर में पानी की उपलब्धता पर गहराता संकट

Submitted by UrbanWater on Fri, 05/29/2020 - 17:04
Author
कृष्ण गोपाल 'व्यास'
covid-19-kay-daur-mein-pani-key-upalabdhata-par-gaharata-sankat
कोरोना और जलसंकट
कोविड-19 के जिस दौर में ध्वस्त होती अर्थ-व्यवस्था, श्रमिकों का पलायन और कोरोना के इलाज के लिए उपयुक्त दवा के अभाव में मरते लोगों का मुद्दा पूरी दुनिया के सामने मुख्य धारा में हो; उस दौर में राजस्थान के एक छोटे से गांव के पेयजल संकट की बात अनेक लोगों को अटपटी लग सकती है। पर जब दिनांक 25 मई 2020 को उपेन्द्र शंकरजी ने जयपुर जिले की बस्सी तहसील के दनऊँ खुर्द ग्राम के पप्पू लाल शर्मा का पत्र वाट्सअप पर मुझे भेजा तो लगा कि यह समस्या, किसी भी कसौटी पर कम महत्वपूर्ण नहीं है। कोरोना तो साल दो साल की आपदा है पर गर्मी के मौसम का जल संकट तो सुरसा के मुँह की तरह लगातार बढ़ने वाला संकट है।

Content

समुद्र और जलाशयों में प्लास्टिक कचरे को रोकने के लिए बन रही हैं प्लास्टिक की रोड 

Submitted by UrbanWater on Sat, 05/23/2020 - 11:32
samudra-aur-jalashayon-mein-plastic-kachare-ko-rokane-kay-liye
Source
साभार- योजना जनवरी 2020
प्लास्टिक कचरे का उचित प्रबंधन जरूरी
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बहने वाली दो बड़ी नदियों पर प्लास्टिक कचरे के इस्तेमाल का असर साफ-साफ दिखाई देता है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सिंध नदी से समुद्र में लगभग 164,332 टन और मेघना-ब्रह्मपुत्र से 72,845 टन प्लास्टिक कचरा समुद्र में पहुँचता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक देश में सिंगल-यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने का लक्ष्य तय किया है।

सबसे बड़ी चुनौती है घर-घर में पीने का पानी पहुंचाना : केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत 

Submitted by UrbanWater on Fri, 05/22/2020 - 16:09
sabse-badi-chunauti-hai-ghar-ghar-mein-piney-kaa-pani-pahunchana-kendriya-jal-shakti-mantri-gajendra-singh-shekhavat
Source
साभार - सहारा समय, 21 मई 2020
सहारा न्यूज नेटवर्क के सीईओ एवं एडिटर इन चीफ उपेन्द्र राय एवं केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत
सबसे बड़ी चुनौती है घर-घर में पीने का पानी पहुंचाना। यही जल शक्ति मंत्रालय का सबसे बड़ा लक्ष्य है। हर जरूरी सुविधा की तरह हम पीने के पानी को भी घर-घर पहुंचाने का संकल्प लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

जीवित हुए जलस्रोत, तो जी उठी जैव विविधता

Submitted by HindiWater on Fri, 05/22/2020 - 14:15
jeevit-hue-jal-srot-jee-uthi-jaiv-vividhta
जीवित हुए जलस्रोत, तो जी उठी जैव विविधता
दुनिया भर में खत्म होते जलस्रोत और जैव विविधता सभी के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं। सभी देश जल संकट से निपटने और जैव विविधता को बचाने के तमाम प्रयास कर रहे हैं। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नीतियां और कानून बनाए जा रहे हैं।

प्रयास

नैनखेड़ी गांवः तालाब जिंदा होते ही लौट आई खुशहाली

Submitted by HindiWater on Sat, 05/23/2020 - 13:51
nainkheri-village-saharanpur-smart-village
नैनखेड़ी गांवः तालाब जिंदा होते ही लौट आई खुशहाली
पानीदार देश के रूप में भारत अपनी समृद्धि खोता जा रहा है, लेकिन खो रही समृद्धि को बचाने का कई लोग भरसक प्रयास कर रहे हैं, जिनमें ताजा उदाहरण सहारनपुर के नैनखेड़ी गांव का है, जहां तालाब को न केवल जिंदा किया गया, बल्कि ये गांव टूरिस्ट स्पाॅट बन गया है। जिससे गांव की खुशहाली लौट आई है।

नोटिस बोर्ड

वेबिनारः कोरोना संकट और लाॅकडाउन हिमालय के परिप्रेक्ष में 

Submitted by HindiWater on Tue, 05/19/2020 - 15:04
corona-and-lockdown-in-context-of-himalayas
वेबिनारः कोरोनार संकट और लाॅकडाउन हिमालय के परिप्रेक्ष में 
कोरोना संकट और लॉकडाउन को हिमालय क्षेत्र के परिप्रेक्ष में समझने के लिए 21 मई, गुरुवार 4 बजे हमारे पेज Endangered Himalaya में इतिहासकार डॉ. शेखर पाठक के साथ लाइव बातचीत में जुड़ें।  आप Zoom में https://bit.ly/2zmjhHs लिंक में पंजीकरण करके भी जुड़ सकते हैं। इसका आयोजन हिम धारा और रिवाइटललाइज़िग रेनफेड एग्रीकल्चर द्वारा किया जा रहा है।

‘‘वाॅश फाॅर हेल्थी होम्स-भारत’’ पर वेबिनार

Submitted by HindiWater on Tue, 05/19/2020 - 14:52
WASH-for-healthy-homes-india
‘‘वाॅश फाॅर हेल्थी होम्स-भारत’’ पर वेबिनार
‘‘वाॅश फाॅर हेल्थी होम्स-भारत’’ विषय पर सहगल फाउंडेशन और सीएडब्ल्यूएसटी ऑनलाइन वर्कशाप का आयोजन करने जा रहा है। कार्यशाला का उद्देश्य वाॅश के प्रति लोगों को जागरुक करना और प्रेरित करना है। ये वेबिनार निन्मलिखित विषयों से संबंधित रहेगा - 

ई-चित्रकला व गृह सज्जा प्रतियोगिता में भाग लें और जीते ₹ 1,51,000 पुरस्कार राशि

Submitted by UrbanWater on Wed, 05/13/2020 - 11:11
participateepaintingwinaward
Source
पंकज मालवीय अक्षधा फाउंडेशन
पानी रे पानी
विश्व पर्यावरण दिवस – 5 जून 2020

ई-चित्रकला व गृह सज्जा प्रतियोगिता में भाग लें और जीते ₹ 1,51,000 पुरस्कार राशि |
प्रविष्टि रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि – 30 मई 2020
ई-प्रतियोगिता की तिथि – 5 जून 2020,
समय 10 बजे प्रात: से 4 बजे तक

Upcoming Event

Popular Articles