नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by UrbanWater on Thu, 05/13/2021 - 10:25
हिन्दुकुश हिमालय, फोटो - इंडिया साइंस वायर

कृष्ण गोपाल 'व्यास'

हिन्दुकुश हिमालय, फोटो - इंडिया साइंस वायर

तिब्बत के पठार तथा लगभग 3500 किलोमीटर लम्बी हिन्दुकुश हिमालय पर्वत श्रृंखला, संयुक्त रूप से, उत्तर ध्रुव और दक्षिण ध्रुव के बाद, दुनिया का स्वच्छ जल का सबसे बड़ा स्रोत है। ध्रुवों की तर्ज पर बर्फ का विशाल भंडार होने के कारण इस क्षेत्र को कुछ लोग तीसरा ध्रुव (The Third Pole) भी कहते हैं।

Content

Submitted by HindiWater on Tue, 03/23/2021 - 16:30
Source:
एक नदी को जीवित करने का प्रयास
हिण्डन नदी, उत्तरी भारत में यमुना नदी की एक सहायक नदी के रूप जानी जाती  है  इस नदी का उद्गम  स्थल सहारनपुर जिले के निचले हिमालय क्षेत्र के ऊपरी शिवालिक पर्वतमाला में स्थित है। यह बरसाती नदी है इसका बेसीन क्षेत्र लगभग 7083 वर्ग किमी है। यह नदी मुज़फ्फरनगर जिला, मेरठ जिला, बागपत जिला, गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा से होकर दिल्ली से कुछ दूरी पर यमुना पर मिल जाती है।
Submitted by HindiWater on Tue, 03/23/2021 - 15:58
Source:
हर घर नल से क्या रुक पाएगा पानी का अतिक्रमण
विषम भूगोल वाले उत्तराखंड में हर साल औसतन 1529 मिमी बारिश होती है, जिसमें अकेले चौमासे यानी मानसून की भागीदारी 1221.9 मिमी है। बारिश का यह पानी हर साल यूं ही जाया हो जाता है। हालांकि, खाल-चाल, खंत्तियां, चेकडैम जैसे उपायों के जरिये इसे रोकने के प्रयास विभिन्न विभागों के स्तर पर हुए हैं, लेकिन इनमें तेजी की दरकार है। राज्य में निरंतर सूखते जलस्रोतों को बचाने के लिए यह जरूरी भी है। नीति आयोग की रिपोर्ट ही बताती है कि उत्तराखंड में 300 के करीब जलस्रोत सूख चुके हैं या सूखने के कगार पर हैं। इस सबको देखते हुए राज्य सरकार ने भी जल संरक्षण को अपनी शीर्ष प्राथमिकता में रखा है। 
Submitted by HindiWater on Mon, 03/22/2021 - 15:52
Source:
'नौल', फोटो- कौशल सक्सेना, दून पुस्तकालय देहरादून
नौल की संरचना एक वर्गाकार लघु बावड़ी की तरह ही होती है। इसका निर्माण उस जगह पर किया जाता है जहां पानी जमीन से रिस-रिस कर बाहर निकलता है। मन्दिर के प्रारुप में बने नौलकी तीन दिशाएं बंद रहती हैं और चैथी दिशा को खुला रखा जाता है। नौल में गन्दगी आदि न जा सके इसके  लिए छत को पाथरों (स्लेट) से ढका जाता है। जल कुण्ड का आकार वर्गाकार वेदी की तरह होता है जो उपर की ओर अधिक और तल की ओर धीरे-धीरे कम चैड़ाई लिए रहता है। कुछ जगहों पर नौल  का एक अन्य रुप भी पाया जाता है जिसे ’चुपटौल’ कहा जाता है। ’चुपटौल’ की बनावट नौल  की तरह न होकर अनगढ़ स्वरुप में रहती है। स्रोत के पास गड्ढा कर सपाट पत्थरों की बंध बनाकर जल को रोक दिया जाता है और इसमें छत नहीं होती है। खास तौर पर नौल के स्रोत बहुत संवेदनशील होते हैं।

प्रयास

Submitted by HindiWater on Fri, 07/09/2021 - 11:44
पानी की किल्लत से जूझ रहे ग्रामीणों ने नई तरकीब निकाली
जिला देहरादून के जनजातीय क्षेत्र जौनसार में गर्मी का मौसम आते ही  यहां के लोगो को पानी कि किल्लत से जूझना पड़ता है आज हम आपको जनजातीय क्षेत्र जौनसार के कालसी ब्लॉक अंतर्गत एक गांव गांगरो की तस्वीरें दिख रहे है जहां पानी की समस्या से लोगो को रोज़ जूझना पड़ता है जिसे देखते हुए सड़क पर एक हैंड पंप की व्यवस्था की गई क्योंकि गांव में  जो परंपरागत जल स्रोत है वो यहां रह रहे करीब एक हजार लोगों को पानी की पूर्ति नही कर पा रहा है 

नोटिस बोर्ड

Submitted by HindiWater on Sat, 07/17/2021 - 12:48
Source:
गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग
स्वामी सांनद  के जन्मदिन 20 जुलाई को जूम पर एक वर्चुअल बैठक का आयोजन शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक किया जा रहा है।
Submitted by HindiWater on Thu, 06/10/2021 - 12:03
Source:
मीडिया डायलॉग:जलवायु संकट और बिहार
जलवायु संकट से लगातार जूझ रहे बिहार को नीति आयोग ने अच्छी रैंकिंग नहीं दी है। इससे पहले भी आईआईटी की एक रिपोर्ट ने बिहार के 14 जिलों को जलवायु परिवर्तन के संकट से मुकाबला करने में सबसे अक्षम जिलों की सूची में रखा है। बिहार सरकार के तमाम दावों के बावजूद जलवायु संकट को लेकर उसकी तैयारी जमीन पर क्यों उतरती नजर नहीं आ रही।
Submitted by HindiWater on Wed, 04/21/2021 - 14:24
Source:
विश्व पृथ्वी दिवस 2021:कोरोना संकट के बीच पर्यवरणीय चिंता
आजकल विभिन्न क्षेत्रों में पानी की उपलब्धता में भिन्नता दिखाई दे रही है। बाढ़ और सुखाड़ पहले से अधिक बारबार होने लगे है,पहले से अधिक तबाही लाने लगे है ऐसे में जरूरी है जलवायू परिवर्तन के प्रभावों के मद्देनजर जल साधानो के प्रबंधन की रणनीति और तरीकों में बदलाव पर विचार करे ।

Latest

खासम-खास

हिन्दुकुश हिमालय पर्वतमाला: दी थर्ड पोल

Submitted by UrbanWater on Thu, 05/13/2021 - 10:25

कृष्ण गोपाल 'व्यास'

हिन्दुकुश हिमालय, फोटो - इंडिया साइंस वायर

तिब्बत के पठार तथा लगभग 3500 किलोमीटर लम्बी हिन्दुकुश हिमालय पर्वत श्रृंखला, संयुक्त रूप से, उत्तर ध्रुव और दक्षिण ध्रुव के बाद, दुनिया का स्वच्छ जल का सबसे बड़ा स्रोत है। ध्रुवों की तर्ज पर बर्फ का विशाल भंडार होने के कारण इस क्षेत्र को कुछ लोग तीसरा ध्रुव (The Third Pole) भी कहते हैं।

hindukush-himalaya-parvatamala-third-pole

Content

एक नदी को जीवित करने का प्रयास

Submitted by HindiWater on Tue, 03/23/2021 - 16:30
ek-nadi-ko-jivit-karne-ka-prayas
एक नदी को जीवित करने का प्रयास
हिण्डन नदी, उत्तरी भारत में यमुना नदी की एक सहायक नदी के रूप जानी जाती  है  इस नदी का उद्गम  स्थल सहारनपुर जिले के निचले हिमालय क्षेत्र के ऊपरी शिवालिक पर्वतमाला में स्थित है। यह बरसाती नदी है इसका बेसीन क्षेत्र लगभग 7083 वर्ग किमी है। यह नदी मुज़फ्फरनगर जिला, मेरठ जिला, बागपत जिला, गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा से होकर दिल्ली से कुछ दूरी पर यमुना पर मिल जाती है।

हर घर नल से क्या रुक पाएगा पानी का अतिक्रमण

Submitted by HindiWater on Tue, 03/23/2021 - 15:58
har-ghar-nal-se-kya-rook-payega-pani-ka-atikraman
 हर घर नल से क्या रुक पाएगा पानी का अतिक्रमण
विषम भूगोल वाले उत्तराखंड में हर साल औसतन 1529 मिमी बारिश होती है, जिसमें अकेले चौमासे यानी मानसून की भागीदारी 1221.9 मिमी है। बारिश का यह पानी हर साल यूं ही जाया हो जाता है। हालांकि, खाल-चाल, खंत्तियां, चेकडैम जैसे उपायों के जरिये इसे रोकने के प्रयास विभिन्न विभागों के स्तर पर हुए हैं, लेकिन इनमें तेजी की दरकार है। राज्य में निरंतर सूखते जलस्रोतों को बचाने के लिए यह जरूरी भी है। नीति आयोग की रिपोर्ट ही बताती है कि उत्तराखंड में 300 के करीब जलस्रोत सूख चुके हैं या सूखने के कगार पर हैं। इस सबको देखते हुए राज्य सरकार ने भी जल संरक्षण को अपनी शीर्ष प्राथमिकता में रखा है। 

समृद्ध जल संस्कृति के संवाहक हैं : 'नौल'

Submitted by HindiWater on Mon, 03/22/2021 - 15:52
samruddh-jal-sanskriti-k-samvahak-hain-:-'naul'
'नौल', फोटो- कौशल सक्सेना, दून पुस्तकालय देहरादून
नौल की संरचना एक वर्गाकार लघु बावड़ी की तरह ही होती है। इसका निर्माण उस जगह पर किया जाता है जहां पानी जमीन से रिस-रिस कर बाहर निकलता है। मन्दिर के प्रारुप में बने नौलकी तीन दिशाएं बंद रहती हैं और चैथी दिशा को खुला रखा जाता है। नौल में गन्दगी आदि न जा सके इसके  लिए छत को पाथरों (स्लेट) से ढका जाता है। जल कुण्ड का आकार वर्गाकार वेदी की तरह होता है जो उपर की ओर अधिक और तल की ओर धीरे-धीरे कम चैड़ाई लिए रहता है। कुछ जगहों पर नौल  का एक अन्य रुप भी पाया जाता है जिसे ’चुपटौल’ कहा जाता है। ’चुपटौल’ की बनावट नौल  की तरह न होकर अनगढ़ स्वरुप में रहती है। स्रोत के पास गड्ढा कर सपाट पत्थरों की बंध बनाकर जल को रोक दिया जाता है और इसमें छत नहीं होती है। खास तौर पर नौल के स्रोत बहुत संवेदनशील होते हैं।

प्रयास

पानी की किल्लत से जूझ रहे ग्रामीणों ने नई तरकीब निकाली

Submitted by HindiWater on Fri, 07/09/2021 - 11:44
paani-ki-killat-se-jujh-rahe-gramino-ne-nai-tarkeeb-nikali
पानी की किल्लत से जूझ रहे ग्रामीणों ने नई तरकीब निकाली
जिला देहरादून के जनजातीय क्षेत्र जौनसार में गर्मी का मौसम आते ही  यहां के लोगो को पानी कि किल्लत से जूझना पड़ता है आज हम आपको जनजातीय क्षेत्र जौनसार के कालसी ब्लॉक अंतर्गत एक गांव गांगरो की तस्वीरें दिख रहे है जहां पानी की समस्या से लोगो को रोज़ जूझना पड़ता है जिसे देखते हुए सड़क पर एक हैंड पंप की व्यवस्था की गई क्योंकि गांव में  जो परंपरागत जल स्रोत है वो यहां रह रहे करीब एक हजार लोगों को पानी की पूर्ति नही कर पा रहा है 

नोटिस बोर्ड

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

Submitted by HindiWater on Sat, 07/17/2021 - 12:48
ganga-key-aviralata-or-nirmalata-ko-sthapit-karne-ke-liye-virtual-meeting-ka-aayojan
गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग
स्वामी सांनद  के जन्मदिन 20 जुलाई को जूम पर एक वर्चुअल बैठक का आयोजन शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक किया जा रहा है।

मीडिया डायलॉग:जलवायु संकट और बिहार

Submitted by HindiWater on Thu, 06/10/2021 - 12:03
media-dialogue-:jalvayu-sankat-or-bihar
मीडिया डायलॉग:जलवायु संकट और बिहार
जलवायु संकट से लगातार जूझ रहे बिहार को नीति आयोग ने अच्छी रैंकिंग नहीं दी है। इससे पहले भी आईआईटी की एक रिपोर्ट ने बिहार के 14 जिलों को जलवायु परिवर्तन के संकट से मुकाबला करने में सबसे अक्षम जिलों की सूची में रखा है। बिहार सरकार के तमाम दावों के बावजूद जलवायु संकट को लेकर उसकी तैयारी जमीन पर क्यों उतरती नजर नहीं आ रही।

विश्व पृथ्वी दिवस 2021:कोरोना संकट के बीच पर्यवरणीय चिंता

Submitted by HindiWater on Wed, 04/21/2021 - 14:24
vishva-prithvi-divas-2021:corona-sankat-k-beach-paryavaraniya-chinta
 विश्व पृथ्वी दिवस 2021:कोरोना संकट के बीच पर्यवरणीय चिंता
आजकल विभिन्न क्षेत्रों में पानी की उपलब्धता में भिन्नता दिखाई दे रही है। बाढ़ और सुखाड़ पहले से अधिक बारबार होने लगे है,पहले से अधिक तबाही लाने लगे है ऐसे में जरूरी है जलवायू परिवर्तन के प्रभावों के मद्देनजर जल साधानो के प्रबंधन की रणनीति और तरीकों में बदलाव पर विचार करे ।

Upcoming Event

Popular Articles