नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by HindiWater on Fri, 02/21/2020 - 10:10
शुद्ध जल उपलब्धता - मध्यप्रदेश के बढ़ते सधे कदम 
मध्यप्रदेश में पिछले कुछ दिनों से लोगों को पीने के साफ पानी को उपलब्ध कराने की दिशा में सरकार के स्तर पर लगातार चिन्तन चल रहा है। कार्यशालाएं हो रही हैं। देश भर से जल विशेषज्ञों को आमंत्रित कर उनकी राय ली जा रही है। अनुभव बटोरे जा रहे हैं। इस चिन्तन में पीएचई मंत्री और ग्रामीण विकास मंत्री, अपनी-अपनी टीम को लेकर एक साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं।

Content

Submitted by HindiWater on Thu, 07/25/2019 - 12:36
Source:
climate change in sundarban shekh diljan
शेख दिलजान। सुंदरवन का घोड़ामारा आइलैंड तेजी से पानी में समा रहा है। इससे यहां रहनेवाले लोगों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है, लेकिन 30 वर्षीय शेख दिलजान के लिए ये कमाई का जरिया बन कर आया है। घोड़ामारा की बर्बादी देखने के लिए इन दिनों देशी-विदेशी एनजीओ से लेकर पत्रकारों की आमद बढ़ी है। शेख दिलजान इनके लिए गाइड का काम करने लगे हैं। इसके एवज में हर महीने उन्हें कुछ रुपए आ जाते हैं। इलाके के लोग प्यार से उन्हें मोआ कहते हैं। दिलजान को नहीं मालूम कि उन्हें ये नाम कैसे मिला।
Submitted by HindiWater on Wed, 07/24/2019 - 19:47
Source:
arun krishnamurti
अरुण कृष्णमूर्ति। नौकरी छोड़ने के बाद अरुण ने अपना जीवन पर्यावरण के प्रति ही समर्पित कर दिया और झीलों को साफ करने के उद्देश्य के लिए वर्ष 2007 में एनवायरमेंट फाउंडेशन इंडिया (ईएफआई) की स्थापना की। अपने इस अभियान की शुरुआत हैदराबाद के गुरुनधान झील को साफ करके की। अरुण ने जल संरक्षण में योगदान देने वाले स्वयंसेवकों के लिए विभिन्न स्कूलों में जाकर विभिन्न जागरुकता कार्यक्रमों का आयोजन किया। सेमिनार और कार्यशालाओं के माध्यम से जल संरक्षण की जानकारी दी।
Submitted by HindiWater on Wed, 07/24/2019 - 11:09
Source:
दैनिक नवज्योति, 25 जून 2019
affects of air pollution on economy
अर्थव्यवस्था पर वायु प्रदूषण का प्रभाव। विश्व के 20 सबसे वायु प्रदूषित शहरों में से 14 भारत में हैं। इनमें कानपुर विश्व का सर्वाधिक प्रदूषित शहर है। हमारी इस दुरूह परिस्थिति के पीछे कारण यह है कि वायु प्रदूषण से भारी हानि आम जनता को होती है, जबकि वायु प्रदूषण फैलाने से न्यून लाभ चुनिन्दा व्यवसायियों को होता है। अतः व्यवसायी अपने न्यून लाभ के लिए वायु प्रदूषण का विस्तार करते हैं और भारी खामियाजा आम जनता भुगतती है। व्यवसायियों पर नकेल कसने में सरकार फेल है।

प्रयास

Submitted by RuralWater on Wed, 02/19/2020 - 10:49
चिपको की तर्ज पर बचाया तांतरी का जंगल
मैंने जिंदगी का सबसे अहम पाठ सीख लिया है कि कभी हार मत मानो और अपनी बातों का अनुसरण करते रहो। सभी महिलाएं चिपको आंदोलन की तर्ज पर पेड़ों से चिपक गईं। वनकर्मियों ने हमें समझाने की कोशिशें की, तो लकड़ी माफिया ने हमें रिश्वत देने की कोशिश की और मना करने पर हमें जान से मारने की धमकी भी दी। लेकिन हमने अपने कदम पीछे लेने से मना कर दिया।

नोटिस बोर्ड

Submitted by RuralWater on Mon, 02/17/2020 - 15:35
Source:
Hindi Watet Portal
नदी घाटी विचार मंच
अब खतरा मात्र नदी नही, नदी घाटियों पर सामने दिखता है। नदी घाटियों का व्यवसायिकरण हो रहा है। बांधों की बात तो पीछे छोड़े, पूरी नदी घाटी, नदी जोड़ परियोजना से प्रभावित होने की बात है; जिसका न केवल मानव बल्कि पूरी प्रकृति पर स्थानीय देशी और वैश्विक प्रभाव भी हो रहा है।
Submitted by HindiWater on Mon, 02/10/2020 - 10:51
Source:
जल संसाधन प्रबंधन पर पुणे में दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला
राष्ट्रीय जल अकादमी, केन्द्रीय जल आयोग, पुणे में “जल संसाधन प्रबंधन पर प्रशिक्षण.सह.कार्यशाला” विषय पर 26-27 मार्च को गैर सरकारी संगठनों और मीडिया कर्मियों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम में पंजीकरण कराने के लिए किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाएगा।
Submitted by HindiWater on Mon, 01/20/2020 - 11:07
Source:
मीडिया महोत्सव-2020
गत वर्षों की भांति इस बार भी 22-23 फरवरी, 2020 (शनिवार-रविवार, चतुर्दशी-अमावस्या, कृष्ण पक्ष, माघ, विक्रम संवत 2076) को “भारत का अभ्युदय : मीडिया की भूमिका” पर केन्द्रित “मीडिया महोत्सव-2020” का आयोजन भोपाल में होना सुनिश्चित हुआ है l

Latest

खासम-खास

शुद्ध जल उपलब्धता - मध्यप्रदेश के बढ़ते सधे कदम 

Submitted by HindiWater on Fri, 02/21/2020 - 10:10
Author
कृष्ण गोपाल 'व्यास’
शुद्ध जल उपलब्धता - मध्यप्रदेश के बढ़ते सधे कदम 
मध्यप्रदेश में पिछले कुछ दिनों से लोगों को पीने के साफ पानी को उपलब्ध कराने की दिशा में सरकार के स्तर पर लगातार चिन्तन चल रहा है। कार्यशालाएं हो रही हैं। देश भर से जल विशेषज्ञों को आमंत्रित कर उनकी राय ली जा रही है। अनुभव बटोरे जा रहे हैं। इस चिन्तन में पीएचई मंत्री और ग्रामीण विकास मंत्री, अपनी-अपनी टीम को लेकर एक साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं।

Content

डूबता घोड़ामारा शेख दिलजान की कमाई का जरिया है 

Submitted by HindiWater on Thu, 07/25/2019 - 12:36
Author
उमेश कुमार राय
climate change in sundarban shekh diljan
शेख दिलजान।शेख दिलजान। सुंदरवन का घोड़ामारा आइलैंड तेजी से पानी में समा रहा है। इससे यहां रहनेवाले लोगों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है, लेकिन 30 वर्षीय शेख दिलजान के लिए ये कमाई का जरिया बन कर आया है। घोड़ामारा की बर्बादी देखने के लिए इन दिनों देशी-विदेशी एनजीओ से लेकर पत्रकारों की आमद बढ़ी है। शेख दिलजान इनके लिए गाइड का काम करने लगे हैं। इसके एवज में हर महीने उन्हें कुछ रुपए आ जाते हैं। इलाके के लोग प्यार से उन्हें मोआ कहते हैं। दिलजान को नहीं मालूम कि उन्हें ये नाम कैसे मिला।

झीलों और तालाबों के संरक्षण के लिए छोड़ी गूगल की नौकरी

Submitted by HindiWater on Wed, 07/24/2019 - 19:47
arun krishnamurti
अरुण कृष्णमूर्ति।अरुण कृष्णमूर्ति। नौकरी छोड़ने के बाद अरुण ने अपना जीवन पर्यावरण के प्रति ही समर्पित कर दिया और झीलों को साफ करने के उद्देश्य के लिए वर्ष 2007 में एनवायरमेंट फाउंडेशन इंडिया (ईएफआई) की स्थापना की। अपने इस अभियान की शुरुआत हैदराबाद के गुरुनधान झील को साफ करके की। अरुण ने जल संरक्षण में योगदान देने वाले स्वयंसेवकों के लिए विभिन्न स्कूलों में जाकर विभिन्न जागरुकता कार्यक्रमों का आयोजन किया। सेमिनार और कार्यशालाओं के माध्यम से जल संरक्षण की जानकारी दी।

अर्थव्यवस्था पर वायु प्रदूषण का प्रभाव

Submitted by HindiWater on Wed, 07/24/2019 - 11:09
Source
दैनिक नवज्योति, 25 जून 2019
affects of air pollution on economy
अर्थव्यवस्था पर वायु प्रदूषण का प्रभाव। अर्थव्यवस्था पर वायु प्रदूषण का प्रभाव। विश्व के 20 सबसे वायु प्रदूषित शहरों में से 14 भारत में हैं। इनमें कानपुर विश्व का सर्वाधिक प्रदूषित शहर है। हमारी इस दुरूह परिस्थिति के पीछे कारण यह है कि वायु प्रदूषण से भारी हानि आम जनता को होती है, जबकि वायु प्रदूषण फैलाने से न्यून लाभ चुनिन्दा व्यवसायियों को होता है। अतः व्यवसायी अपने न्यून लाभ के लिए वायु प्रदूषण का विस्तार करते हैं और भारी खामियाजा आम जनता भुगतती है। व्यवसायियों पर नकेल कसने में सरकार फेल है।

प्रयास

चिपको की तर्ज पर बचाया तांतरी का जंगल

Submitted by RuralWater on Wed, 02/19/2020 - 10:49
Source
अमर उजाला, 19 फरवरी, 2020
चिपको की तर्ज पर बचाया तांतरी का जंगल
मैंने जिंदगी का सबसे अहम पाठ सीख लिया है कि कभी हार मत मानो और अपनी बातों का अनुसरण करते रहो। सभी महिलाएं चिपको आंदोलन की तर्ज पर पेड़ों से चिपक गईं। वनकर्मियों ने हमें समझाने की कोशिशें की, तो लकड़ी माफिया ने हमें रिश्वत देने की कोशिश की और मना करने पर हमें जान से मारने की धमकी भी दी। लेकिन हमने अपने कदम पीछे लेने से मना कर दिया।

नोटिस बोर्ड

नदी घाटी विचार मंच

Submitted by RuralWater on Mon, 02/17/2020 - 15:35
Source
Hindi Watet Portal
नदी घाटी विचार मंच
अब खतरा मात्र नदी नही, नदी घाटियों पर सामने दिखता है। नदी घाटियों का व्यवसायिकरण हो रहा है। बांधों की बात तो पीछे छोड़े, पूरी नदी घाटी, नदी जोड़ परियोजना से प्रभावित होने की बात है; जिसका न केवल मानव बल्कि पूरी प्रकृति पर स्थानीय देशी और वैश्विक प्रभाव भी हो रहा है।

जल संसाधन प्रबंधन पर पुणे में दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला

Submitted by HindiWater on Mon, 02/10/2020 - 10:51
जल संसाधन प्रबंधन पर पुणे में दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला
राष्ट्रीय जल अकादमी, केन्द्रीय जल आयोग, पुणे में “जल संसाधन प्रबंधन पर प्रशिक्षण.सह.कार्यशाला” विषय पर 26-27 मार्च को गैर सरकारी संगठनों और मीडिया कर्मियों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम में पंजीकरण कराने के लिए किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाएगा।

मीडिया महोत्सव-2020

Submitted by HindiWater on Mon, 01/20/2020 - 11:07
मीडिया महोत्सव-2020
गत वर्षों की भांति इस बार भी 22-23 फरवरी, 2020 (शनिवार-रविवार, चतुर्दशी-अमावस्या, कृष्ण पक्ष, माघ, विक्रम संवत 2076) को “भारत का अभ्युदय : मीडिया की भूमिका” पर केन्द्रित “मीडिया महोत्सव-2020” का आयोजन भोपाल में होना सुनिश्चित हुआ है l

Upcoming Event

Popular Articles